सोमवार, 25 मार्च 2013

रंगों की दिवाली

                                           (चित्र साभार : myindiazone.com)

रंगों की दिवाली होली ।
आई फिर मतवाली होली ।।
गुझिया , पापड़ , जलेबी खाई ।
संग में मिलकर होली मनाई ॥

होली का हुड़दंग मचा ।
गली - गली में ढोल बजा ॥
आपस में कभी न झगड़ों ।
होली में दिलों को जोड़ों ॥

बीती बातों को भूल जाओं ।
संग में गले अब मिल जाओं ॥
बनाये रखना अपनी ये दोस्ती ।
आई है फिर मतवाली होली ॥ 





शुक्रवार, 1 मार्च 2013

महंगाई


महंगाई में हालत हो गई खस्ता।
नहीं रहा अब कुछ भी सस्ता,
महंगे हो गये अनाज के दाम।
चारों तरफ है महंगाई का नाम,

                                                 महंगी हो गई रोटी, दाल।
                                                 अब बचे सिर्फ सिर के बाल,
                                                 महंगाई ने कर दिया दिल बेहाल।
                                                 ऐसी होती महंगाई की मार,

गरीब की है दुहाई।
बंद करो ये महंगाई,
आती तो मुझे रुलाई।
कब ख़त्म होगी महंगाई।।